पैरवी को गए BJP जिला सचिव का यह हाल कर पुलिस ने दिखाई हवालात

पैरवी को गए BJP जिला सचिव का यह हाल कर पुलिस ने दिखाई हवालात

कानपुर। मारपीट के मामले में हवालात में बंद किए गए साथी को छुड़ाने के लिए थाने पहुंचे भारतीय जनता पार्टी के जिला सचिव की पुलिस ने जमकर क्लास लेते हुए थाने के अंदर बैठा लिया। देर रात भाजपाइयों की ओर से हंगामा किए जाने के बाद दोनों पक्षों को समझा-बुझाकर मामले को रफा-दफा कर दिया गया।

महानगर के गोविंद नगर थाना क्षेत्र के शिव नगर बस्ती निवासी करण बाल्मीकि भारतीय जनता पार्टी से जुड़ा हुआ है और वह भाजपा अनुसूचित मोर्चा के जिला सचिव एवं भाजपा जूही मंडल के सेक्टर संयोजक हैं। सोशल मीडिया पर दी गई जानकारी के मुताबिक भाजपा नेता अपने दोस्त अजय कुमार, जिसका किसी के साथ विवाद हो गया था और कंट्रोल रूम की सूचना पर पुलिस दोनों पक्षों को हिरासत में लेकर थाने ले गई थी को छुडाने के लिये थाने पहुंचे थे। भाजपा के जिला सचिव का आरोप है कि पुलिस ने एक पक्ष को कुछ देर बाद छोड़ दिया था, लेकिन उसके साथी अजय कुमार को जबरिया थाने के भीतर ही बैठाए रखा। अजय कुमार की ओर से दी गई सूचना के बाद देर रात करण बाल्मीकि अपने साथी की पैरवी करने के लिए थाने पहुंचे और पुलिस से मुलाकात करते हुए उसे छोड़ने का आरोप आग्रह किया। भाजपा जिला सचिव का आरोप है कि इस बात से गुस्साए पुलिसकर्मियों ने उन्हें एवं अजय कुमार को पीटा और उन्हें भी थाने के भीतर बैठा लिया। बाद में मामले का पता चलने पर भाजपाइयों की ओर से थाने का घेराव कर जब मामले को लेकर आक्रोश जताया गया तो सक्रिय हुए एसीपी गोविंद नगर विकास पांडे ने दोनों पक्षों को समझा-बुझाकर मामले को रफा-दफा करा दिया।



Top