जनता दर्शन में फरियादियों ने सुनाया डीएम को अपना दुखड़ा- हुए यह निर्देश

जनता दर्शन में फरियादियों ने सुनाया डीएम को अपना दुखड़ा- हुए यह निर्देश

मुजफ्फरनगर। कलेक्ट्रेट में आयोजित किए गए जनता दर्शन कार्यक्रम में पहुंचे फरियादियों ने जिलाधिकारी को अपनी समस्याओं को लेकर दुखड़ा सुनाया। जिलाधिकारी ने फरियादियों की बात सुनने के बाद संबंधित अधिकारियों को समस्याओं के निराकरण के निर्देश दिए और कहा कि दिया गया कार्य प्राथमिकता के आधार पर पूरा करते हुए फरियादी को राहत दी जानी चाहिए।

बृहस्पतिवार को जिलाधिकारी चंद्र भूषण सिंह ने शासन के निर्देश पर आयोजित किए गए जनता दर्शन कार्यक्रम के अंतर्गत अपने दफ्तर में जिले भर के विभिन्न स्थानों से आए फरियादियों की समस्याओं को सुनकर उनके निराकरण के निर्देश संबंधित अधिकारियों को दिए। जिलाधिकारी ने अधिकारियों को निर्देश देते हुए कहा है कि सभी अधिकारी कार्यालय में समस्त कार्यदिवसों में प्रातः 10 बजे से 12 बजे तक स्वयं जनसुनवाई करें एवं जनता की समस्याओं का मौके पर निस्तारण कराना भी सुनिश्चित करें। जनशिकायतों पर मात्र आदेश देने की औपचारिकता न करके सभी अधिकारी यह सुनिश्चित करें कि यदि किसी प्रार्थी की समस्या ज्यादा समय से लम्बित है, तो दूरभाष पर राजस्व व पुलिस अधिकारियों को निर्देशित कर प्राप्त समस्याओं का निस्तारण कराया जाए।

डीएम ने कहा कि विशेष कर भूमि सम्बन्धी विवाद में उपजिलाधिकारी और पुलिस क्षेत्राधिकारी यदि आवश्यक हो तो राजस्व व पुलिस अधिकारियों की संयुक्त टीम बनाकर कार्यवाही किया जाना सुनिश्चित करें, जिससे कि समस्या का स्थायी रूप से निराकरण हो सके।

डीएम ने कहा कि जनसुनवाई के समय यदि अधीनस्थ अधिकारियों/कर्मचारियों की लापरवाही की कोई शिकायतें प्राप्त होती हैं, तो कड़ी से कड़ी कार्यवाही सुनिश्चित की जाए, जिससे कि प्रदेश में मुख्यमंत्री के भ्रष्टाचार के प्रति जीरो टॉलरेंस की नीति को भरपूर शक्ति से लागू किया जा सके।

उन्होंने बताया कि जनसुनवाई के दौरान जनप्रतिनिधियों से प्राप्त जनसमस्याओं का प्राथमिकता पर निस्तारण किया जाय। सरकारी सीयूजी नम्बर पर अधिकारीगण स्वयं उत्तर दें एवं जनप्रतिनिधियों से दूरभाष पर भी सम्पर्क में रहें, जिससे जनपद में समन्वित रूप से जनसमस्याओं निस्तारण हो सके।

प्रदेश में आई0जी0आर0एस0 की प्रणाली लागू है अगर शिकायतों का निस्तारण समय पर हो तो जनपद की रैंक अच्छे स्तर पर रहेगी।

अधिकारियों से अपेक्षा है कि नियमित रूप से आईजीआरएस, सीएम हेल्पलाइन, संपूर्ण समाधान दिवस व थाना समाधान दिवस में प्राप्त शिकायतों के निस्तारण की समीक्षा की जाये, जिस किसी ब्लाक, तहसील या थाना में अधिकतम शिकायतें लम्बित होगी, उनके सम्बन्धित अधिकारियों के विरूद्ध कार्यवाही की जाएगी। जिलाधिकारी ने कहा कि शीघ्र ही जनसुनवाई व आईजीआरएस व सीएम हेल्पलाईन की वह स्वयं समीक्षा करेंगे। यदि जनसुनवाई में अधिकारियों द्वारा आईजीआरएस एवं सीएम हेल्पलाइन पर प्राप्त जनशिकायतों का गुणवत्तापूर्ण एवं त्वरित निस्तारण नही होता है, तो सम्बन्धित जिला स्तरीय अधिकारियों का उत्तरदायित्व निर्धारित कर सख्त कार्यवाही सुनिश्चित की जायेगी।

epmty
epmty
Top