दिव्यांगजनों को सम्मान देकर प्रोत्साहित कर मुख्यधारा से जोड़ेगे- मंत्री

दिव्यांगजनों को सम्मान देकर प्रोत्साहित कर मुख्यधारा से जोड़ेगे- मंत्री

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के दिव्यांगजन सशक्तिकरण राज्यमंत्री (स्वंत्रत प्रभार) नरेन्द्र कश्यप की अध्यक्षता में विश्व दिव्यांग दिवस 03 दिसम्बर, 2022 के उपलक्ष्य में राज्य स्तरीय पुरस्कार वितरण एवं सम्मान हेतु पात्र आवेदनकर्ताओं के चयन किये जाने हेतु चयनित समिति की बैठक विधानसभा स्थित कार्यालय में आयोजित की गयी। बैठक में समस्त जिलों से आये पात्र आवेदनकर्ताओं के नामों के चयन पर विचार-विमर्श किया गया।

दिव्यांगजन मंत्री ने कहा कि दिव्यांगजनों के पुनर्वास एवं उनको शिक्षित कर सभ्यता की मुख्यधारा में शामिल करने के लिए उ0प्र0 सरकार विभिन्न योजनाओं के माध्यम से उनके प्रति गम्भीरता से कार्य कर रही है। इसी आधार पर दिव्यांगजनों को प्रोत्साहित करने तथा समाज की उन्नति के लिए दिव्यांगजनों द्वारा किये गये कार्याे को पुरस्कृत व सम्मानित किया जायेगा। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी व उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ दिव्यांगजनों को मुख्यधारा से जोड़ने के लिए दृढ़ संकल्पित हैं। केन्द्र व प्रदेश सरकार के द्वारा दिव्यांगों के हित में संचालित योजनाओं से लाभान्वित किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि दिव्यांगता के प्रति संवेदनशीलता बढ़ाने के लिए संयुक्त राष्ट्र द्वारा 03 दिसम्बर को विश्व दिव्यांग दिवस के रूप में घोषित किया गया है। यह राजनीतिक, सामाजिक, आर्थिक और सांस्कृतिक आदि जैसे जीवन के हर पहलू में दिव्यांग व्यक्तियों के अधिकारों तथा उनके हितों को प्रोत्साहित करने की परिकल्पना करता है।

'विश्व दिव्यांग दिवस' पुरस्कार राज्य स्तर पर दक्ष दिव्यांग कर्मचारियों व स्वनियोजित दिव्यांगजन, सर्वश्रेष्ठ नियोक्ता तथा सर्वश्रेष्ठ प्लेसमेंट अधिकारी या एजेंसी, सर्वश्रेष्ठ व्यक्ति व संस्था, प्रेरणास्रोत, सृजनशील दिव्यांग बालक व बालिका, दिव्यांग खिलाड़ियों, दिव्यांगजन हेतु बाधारहित वातावरण के सृजन हेतु सर्वश्रेष्ठ कार्य के लिए, दिव्यांगजन को पुनर्वास सेवायें प्रदान करने वाले श्रेष्ठ जिला आदि कुल 12 विभिन्न श्रेणियों में प्रदान किये जाते हैं।

आयोजित की गयी समिति की बैठक में अपर मुख्य सचिव हेमन्त राव, राज्य आयुक्त दिव्यांगजन अजीत कुमार, निदेशक दिव्यांगजन, सत्य प्रकाश पटेल, विशेष सचिव श्रम राजेन्द्र सिंह, निदेशक सी.आर.सी. रमेश पाण्डेय, संयुक्त निदेशक स्वास्थ्य डॉ0 ए0के0 त्रिपाठी, अमिताभ शुक्ला, प्रबन्धक, भागीरथ सेवा संस्थान, गाजियाबाद आदि उपस्थित रहे।

epmty
epmty
Top