झारखंड में ट्रेनें रोके जाने पर सियासत,भाजपा ने कहा ये बिहार का अपमान

झारखंड में ट्रेनें रोके जाने पर सियासत,भाजपा ने कहा ये बिहार का अपमान

रांची झारखंड में बिहार से आने वाले ट्रेनें एहतियातन रोक दी गई है ताकि राज्य में संक्रमण न फैले. वहीं, इस मुद्दे पर झारखंड में सियासत शुरू हो गई है. बीजेपी राज्य सरकार पर हमलावर मोड में आ गई है।

बीजेपी प्रवक्ता प्रतुल शाहदेव ने कहा है कि सरकार का यह फैसला बेहद दुखद और दुर्भाग्यपूर्ण है. तबलीगी जमात के लोग पूरे प्रदेश में पकड़े गए और मस्जिदों में छिपे हुए थे तो भी वह बिहार के रास्ते आए हुए थे. जब हिंदीपीढ़ी में लॉक डाउन का उल्लंघन होता रहा और वहां से संक्रमण निकल कर पूरे राज्य में फैलता रहा तो क्या यह भी बिहार के इशारे पर हुआ है।

साथ ही उन्होंने कहा है कि झारखंड में कोरोना टेस्ट कम हो रहा है तो क्या यह भी बिहार के निर्देश पर हुआ है. सरकार के द्वारा ट्रेन को रोकने की जो वजह सरकार के द्वारा दी गई है इससे बिहारियों का अपमान हुआ है. लेकिन उनके गठबंधन के साथी कांग्रेस और राजद उनके साथ हैं और उनके इस फैसले का प्रतिकार नहीं किया तो यह मानते हैं कि उनके इस फैसले से सहमत हैं. यह बहुत ही निंदनीय है। जेएमएम ने वहीं, इस मुद्दे पर बीजेपी पर पलटवार किया है. बीजेपी प्रवक्ता मनोज पांडेय ने पलटवार करते हुए कहा है कि तुष्टिकरण किसकी हो रही है यह उनसे पूछना चाहिए. इस तरह की अनर्गल बयानबाजी से बचना चाहिए।

साथ ही उन्होंने कहा कि कोरोना संक्रमण के खिलाफ जिस मुस्तैदी से लड़ाई लड़ी जा रही है वो झारखंड सरकार के द्वारा माननीय हेमंत सोरेन के अगुवाई में स्वागत योग्य है और चारों ओर प्रशंसा हो रही है। राष्ट्रीय स्तर पर उनकी प्रशंसा हो रही है. कोरोना से बचना है तो ऐसे फैसले लेने होंगे।

Top