करेक्टर सर्टिफिकेट के लिए नहीं पड़ेगा भटकना - मिलेगा 3 दिन में

करेक्टर सर्टिफिकेट के लिए नहीं पड़ेगा भटकना - मिलेगा 3 दिन में

मुरादाबाद। सरकारी कार्यों में ठेकेदारी करना हो या किसी भी कार्य के लिए जब चरित्र प्रमाण पत्र की आवश्यकता पड़ती थी, तो आवेदक को कप्तान से लेकर थाने तक दफ्तरों में भटकते हुए घूमना पड़ता था। सरकार ने भी पब्लिक की दिक्कत को देखते हुए ऑनलाइन चरित्र प्रमाण पत्र बनाने की सुविधा दी थी, लेकिन उसके बाद भी आवेदक को एसएसपी, स्थानीय थाना, डीसीआरबी, अभिसूचना इकाई, एसपी सिटी या एसपी देहात के दफ्तरों के चक्कर काटने पड़ते थे, लेकिन अब मुरादाबाद में पुलिस ने नई पहल शुरू की है। यहां अब 3 दिन में घर बैठे चरित्र प्रमाण पत्र बनाने की डिजिटल सुविधा दी जा रही है। क्या है मुरादाबाद पुलिस यह पहल, पढ़िए खबर ....

मुरादाबाद के एसएसपी के तौर पर चार्ज संभालने के बाद आईपीएस अफसर बबलू कुमार ने मुरादाबाद पुलिस को डिजिटल बनाने की दिशा में कदम बढ़ाया हुआ है। इसी क्रम में उन्होंने ऑनलाइन चरित्र प्रमाण पत्र को बनाने के लिए 3 दिन का समय निर्धारित किया है। मुरादाबाद में आवेदक को अपना चरित्र प्रमाण पत्र बनवाने के लिए यूपी कॉप के माध्यम से आवेदन करना होगा । जैसे ही आवेदक अपना आवेदन करने के बाद पेमेंट गेटवे से 50 रुपये की पेमेंट कैश या एनईएफटी ( NEFT ) के माध्यम से करेगा तो उसके आवेदन का एक ऑनलाइन कोड जनरेट होगा और तुरंत ही उसका आवेदन पत्र एक साथ संबंधित थाना, एलआईयू और डीसीआरबी में एक साथ चला जाएगा। यहां सबसे बेहतर बात यह है कि स्थानीय थाना, एलआईयू और डीसीआरबी एक ही समय में अपनी रिपोर्ट लगाकर एसएसपी की ईमेल आईडी पर भेज सकते हैं। जहां एसएसपी मुरादाबाद के डिजिटल सिग्नेचर मौजूद हैं। जैसे ही एसएसपी की मेल पर चरित्र प्रमाण पत्र का आवेदन आएगा। ऐसे ही संबंधित कर्मचारी एसएसपी के डिजिटल साइन कर आवेदक को उसके पंजीकृत मोबाइल नंबर पर एक टेक्स्ट मैसेज भेज कर अवगत करा देते हैं। इसके साथ ही एक लिंक देकर भी अवगत करा देते हैं कि आपका चरित्र प्रमाण पत्र बन गया है। आप इसको डाउनलोड कर सकते हैं।

एसएसपी मुरादाबाद बबलू कुमार का कहना है कि चरित्र प्रमाण पत्र बनवाने के लिए समय लगने के साथ-साथ आवेदक को परेशानी का सामना करना पड़ता था। शासन के दिशा निर्देश के अनुरूप काम करते हुए हमने 3 दिन में चरित्र प्रमाण पत्र आवेदक को घर बैठे उपलब्ध कराने की कोशिश की है। पुलिस का मकसद है कि जनता को बेहतर से बेहतर सुविधाएं मिलनी चाहिए।

Top