SSP को मिली बड़ी कामयाबी- करोड़ों का माल बरामद कर मारा अरेस्टिंग का चौका

SSP को मिली बड़ी कामयाबी- करोड़ों का माल बरामद कर मारा अरेस्टिंग का चौका

बरेली। एसएसपी रोहित सिंह सजवाण के निर्देशन में क्राईम ब्रांच द्वारा थाना फतेहगंज पश्चिमी क्षेत्रान्तर्गत ए०एन०ए० रोड पर संजीव गर्ग की नृशंस हत्या की घटना को अन्जाम देने वाले गैंग के 4 आरोपियों को गिरफ्तार किया है। पुलिस ने उनके कब्जे से फिरौती में लिये गये रूपये में से 8 सोने की ब्रिक एवं ज्वैलरी (वजन 08 किलो 70 ग्राम), 13 लाख रूपये नकद व घटना में प्रयुक्त आई-20 कार बरामद की है। पुलिस ने गिरफ्तार किये गये आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई करते हुए उन्हें जेल भेज दिया है। गिरफ्तार किये गये आरोपियों के चार साथी फरार है, जिनका गिरफ्तारी के लिये पुलिस प्रयास कर रही है।

गौरतलब है कि दिनांक 21 जनवरी 2022 को वादी शुभम गर्ग पुत्र संजीव गर्ग निवासी मौहल्ला प्रेमनगर थाना प्रेमनगर बरेली द्वारा अपने पिता संजीव गर्ग की हत्या करने के सम्बन्ध में अज्ञात अभियुक्तगण के विरूद्ध थाना फतेहगंज पश्चिमी पर मुकदमा अपराध संख्या 26/22 धारा 302 आईपीसी पंजीकृत कराया गया। प्रथम सूचना के अनुसार संजीव गर्ग, महावीर इण्डस्ट्रीज परसाखेड़ा, रोड नंबर-4 पर स्थित फैक्ट्री पर रोजाना आते जाते थे, लेकिन दिनांक 20 जनवरी 2022 को घर नही पहुंचे, तो वादी शुभम गर्ग एवं इनके परिवार जनों ने तलाश किया तो इनकी कार ए०एन०ए० रोड अन्तर्गत थाना फतेहगंज पश्चिमी पर खड़ी मिली, जिसमें संजीव गर्ग मृत अवस्था में मिले।

इस सनसनीखेज एवं नृशंस हत्याकाण्ड के शीघ्र अनावरण हेतु अपर पुलिस महानिदेश बरेली जोन राजकुमार एवं पुलिस महानिरीक्षक बरेली रमित शर्मा द्वारा समय-समय पर आवश्यक दिशा निर्देश दिये गये। बरेली एसएसपी रोहित सिंह सजवाण के निर्देशन में सर्विलांस व एसओजी टीम बरेली तथा थाना फतेहगंज पश्चिमी पुलिस द्वारा आज ट्यूलिया अण्डरपास बड़ा बाईपास से घटना कारित करने वाले 4 आरोपियों को गिरफ्तार किया गया। पुलिस ने उनके कब्जे से घटना में गये माल में से 8 सोने की ब्रिक (वजन 08 किलोग्राम), सोने आभूषण (वजन करीब 70 ग्राम), 13 लाख रूपये नकद, घटना के रूपयों से खरीदी गयी कार टाटा हैरियर (डार्क एडिशन टॉप मॉडल), घटना में प्रयुक्त आई-20 कार नंबर-आरजे 45 सीएच 5069, 1 लोहे की रॉड, लोहे का दाव बरामद किया गया।

आरोपियों ने पुलिस को पूछताछ में अपना नाम विकास कश्यप उर्फ विकास भल्ला पुत्र राधेश्याम निवासी मठकमलनैनपुर रोड चन्द्रा गैस एजेन्सी के पीछे इज्जतनगर बरेली, शुभम कुमावत पुत्र कालूराम कुमावत निवासी देवगुडा जालसा कुमावतों की धानी थाना कालडेरा जयपुर राजस्थान, गौरव मित्तल उर्फ सोनू पुत्र नरेन्द्रपाल मित्तल निवासी राधिका एन्क्लेव कर्मचारी नगर बरेली, सौरभ मित्तल उर्फ मोनू पुत्र नरेन्द्रपाल मित्तल निवासी राधिका एन्क्लेव कर्मचारी नगर बरेली है और फरार आरोपियों का नाम दयाराम उर्फ विकास पुत्र दुली सिंह निवासी ग्राम देहरी जुम्मन थाना कांठ जनपद मुरादाबाद, दीपक सोनी उर्फ दीपक रॉयल पुत्र निरंजन सोनी निवासी वार्ड नंबर-16 सैनी कॉलोनी थाना शाहपुरा जयपुर ग्रामीण राजस्थान, राजवीर सिंह उर्फ सरपंच पुत्र गूगनराम निवास गांव रघुनाथपुर थाना नारनौल सदर जनपद महेन्द्रगढ़ हरियाणा, मनीष मीणा उर्फ ठाकुर पुत्र जयपाल मीणा निवासी गांव बसई थाना कोटपुतली जयपुर ग्रामीण राजस्थान है। पुलिस ने गिरफ्तार किये आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई करते हुए उन्हें जेल भेज दिया है।


आरोपियों ने पुलिस को पूछताछ के दौरान बताया कि मृतक की साली के लड़के गौरव मित्तल उर्फ सोनू व सौरभ मित्तल उर्फ मोनू मृतक की फैक्ट्री में काम करते थे, परन्तु इनकी गलत हरकतों की वजह से मृतक ने इन्हें फैक्ट्री से निकाल दिया था। इससे चिढ़कर इन दोनों द्वारा विकास कश्यप उर्फ विकास भल्ला से मिलकर अपने मौसा संजीव गर्ग की हत्या की साजिश रची और हत्या करने के लिए 5 लाख रूपये बतौर एडवांस सुपारी दी गयी, जिस पर माह सितम्बर 2021 में विकास भल्ला ने अपने पुराने साथी दयाराम उर्फ विकास व शुभम कुमावत को बुलाकर हत्या की योजना बनायी तथा तभी से गौरव मित्तल उर्फ सोनू व सौरभ मित्तल उर्फ मोनू ने मृतक संजीव गर्ग के घर, फैक्ट्री व आने जाने के रास्तों व समय की पूर्ण जानकारी देकर रैकी करायी। दयाराम उर्फ विकास ने घटना से करीब 10 दिन पहले अपने अन्य साथी मनीष मीणा, दीपक सोनी एवं राजवीर सिंह उर्फ सरपंच को बरेली बुलाया तथा योजनानुसार दिनांक 20 जनवरी 2022 को जब संजीव गर्ग अपनी फैक्ट्री से अपनी वेन्यू गाड़ी से घर के लिए निकले तभी रास्ते में ही रेनॉल्ट शोरूम के पास अभियुक्तों द्वारा समय करीब 20.00 बजे अपनी आई-20 गाड़ी संजीव गर्ग की गाड़ी के आगे लगाकर उनको अपने कब्जे में ले लिया तथा संजीव गर्ग को डरा धमका कर इनकम टैक्स की रेड का डर दिखाकर उसके पुत्र शुभम गर्ग को फोन कराया एवं घर में रखा गोल्ड व कैश फिनिक्स मॉल पर मंगवाया तथा 2 बदमाश मॉल पर जाकर संजीव गर्ग के पुत्र शुभम गर्ग से सारा कैश व गोल्ड लेकर चले गये तथा संजीव गर्ग को फतेहगंज पश्चिमी क्षेत्रान्तर्गत ए0एन0ए0 रोड पर ले जाकर लोहे की रॉड एवं धारदार हथियार से हत्या कर शव गाड़ी में रखकर एक्सीडेंट में मृत्यु दशनि के उद्देश्य से गाड़ी में तोड़फोड़ कर दी और माल लेकर मौके से फरार हो गये।

घटना के अनावरण में लगी पुलिस टीमों द्वारा मृतक की फैक्ट्री, घर तथा आने-जाने के रास्तों एवं फिनिक्स मॉल, टोल टैक्स व अन्य स्थानों के सीसीटीवी फुटेज निकलवाकर संदिग्धों को चिन्हित किया गया। उनके फोटो तथा स्कैच समाचार पत्रों, न्यूज चैनलों एवं सोशल मीडिया के माध्यम से प्रसारित की गई, जिनसे घटना में शामिल बदमाशों के सम्बन्ध में महत्वपूर्ण जानकारियां प्राप्त हुई। घटना में शामिल अभियुक्तगण बेहद शातिर किस्म के अपराधी है। आरोपी विकास कश्यप उर्फ विकास भल्ला मुकदमा अपराध संख्या 170/21 धारा 395/412 आईपीसी थाना प्रेमनगर, बरेली की घटना में जेल जा चुका है। गिरफ्तार व फरार आरोपियों द्वारा अन्य राज्यों/जनपदों में की गयी घटनाओं के अभियोगों के सम्बन्ध में जानकारी की जा रही है।

वारदात का खुलासा करने वाली पुलिस टीम में सर्विलांस सेल प्रभारी निरीक्षक रामगोपाल शर्मा, फतेहगंज पश्चिमी प्रभारी निरीक्षक राजेश कुमार, एसओजी प्रभारी निरीक्षक अभिषेक सिंह, बरेली कोतवाली प्रभारी निरीक्षक हिमांशु निगम, इज्जतनगर प्रभारी निरीक्षक संजय धीर, सीबी गंज प्रभारी निरीक्षक ओमप्रकाश गौतम मय पुलिस टीम मौजूद रहे। वारदाता का खुलासा एवं आरोपियों की गिरफ्तारी करने वाली टीम को उत्साहवर्धन के लिये उच्चाधिकारीगण द्वारा नकद पुरस्कार से पुरस्कृत करने की घोषणा की गयी है।

Top