मेरठ रोड पर चलता मिला नकली दारू का कारखाना- 45 लाख की दारु बरामद

मेरठ रोड पर चलता मिला नकली दारू का कारखाना- 45 लाख की दारु बरामद

मुजफ्फरनगर। वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक अभिषेक यादव की अगुवाई में मादक पदार्थों एवं शराब की तस्करी करने वाले अपराधियों के खिलाफ चलाए जा रहे जीरो ड्रग अभियान के अंतर्गत थाना सिविल लाइन पुलिस और एसओजी की टीम ने बड़ी कामयाबी प्राप्त करते हुए नकली दारू कारखाने का भंडाफोड़ किया है। पुलिस ने इस सिलसिले में पांच अंतरराज्यीय शराब तस्करों को गिरफ्तार किया है। अंतरराज्यीय शराब तस्करों द्वारा नकली दारू बनाने का कारखाना शहर के मेरठ रोड पर मुजफ्फरनगर विकास प्राधिकरण कार्यालय के पीछे खंडहर पड़ी बिल्डिंग के भीतर चलाया जा रहा था।

शनिवार को वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक अभिषेक यादव ने बताया है कि शहर की थाना सिविल लाइन पुलिस और एसओजी की टीम ने मुखबिर से मिली जानकारी के आधार पर मेरठ रोड पर मुजफ्फरनगर विकास प्राधिकरण कार्यालय के पीछे खाली पड़ी खंडहर नुमा बिल्डिंग में चौतरफा घेराबंदी करते हुए जब छापामार कार्रवाई की तो भीतर नकली दारू बनाने का कारखाना चलता मिला। पुलिस ने मौके से राजीव गोयल पुत्र कृष्ण गोपाल निवासी माधवपुरम थाना ब्रह्मपुरी मेरठ, उज्जवल शर्मा पुत्र सत्य प्रकाश निवासी गांव बक्सर थाना सिंभावली जनपद हापुड़ हाल निवासी जय भीमनगर थाना भावनपुर जनपद मेरठ, तरुण कुमार पुत्र बाबू सिंह निवासी ग्राम काजीपुर थाना खरखौदा जनपद मेरठ, विक्रांत दुग्गल पुत्र ललित कुमार निवासी नेहरू नगर थाना सिहानी गेट जनपद गाजियाबाद तथा मनमोहन सिंह पुत्र कदम सिंह निवासी वसुंधरा थाना इंदिरापुरम जनपद गाजियाबाद को गिरफ्तार किया।

पुलिस ने नकली दारू बनाने वाली फैक्ट्री के भीतर से 18 पेटी मैकडॉवेल नंबर 1 तथा ब्लैक एंड ब्लू व्हिस्की नकली शराब, 200 लीटर अपमिश्रित शराब, 49000 ढक्कन भिन्न-भिन्न मार्का, 17000 होलोग्राम, 4000 प्लास्टिक के खाली पव्वे, 750 अलग-अलग ब्रांड के रैपर, 200 लीटर एएनए, 5 किलोग्राम यूरिया के अलावा नकली दारू को लाने ले जाने में काम आने वाली दो स्विफ्ट कार एवं एक आल्टो कार बरामद की है। स्विफ्ट कार के ऊपर फर्जी नंबर प्लेट लगी हुई मिली ह। पुलिस को मौके से एक अल्कोहल मीटर, टोंटी लगी हुई एक छोटी टंकी, ढक्कन सील करने वाली एक मशीन, प्लास्टिक की दो छलनी, दो टब, एक टेप कटर मशीन, टेपरोल, एक पेट्रोमेक्स, एक टॉर्च तथा 20 गत्ते आदि सामान बरामद हुआ है।

वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक ने बताया है कि गिरफ्तार किए गए अंतर राज्यीय शराब तस्करों ने पूछताछ में बताया है कि शराब की आपूर्ति का आर्डर मिलने पर वह अलग-अलग राज्यों के अलग-अलग शहरों में नकली और अवैध शराब की आपूर्ति करते हैं तथा उन्हीं शहरों में जाकर सुनसान एवं खंडहर पड़ी बिल्डिंग में नकली शराब को तैयार कर उसकी आपूर्ति का काम करते थे। वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक ने बताया है कि नकली दारू की फैक्ट्री के भीतर से बरामद की गई 18 पेटी शराब पर अंकित बारकोड को स्कैन किए जाने पर किसी भी तरह की कोई डिटेल प्राप्त नहीं हो रही है। गिरफ्तार किए गए बदमाशों के आपराधिक इतिहास की जानकारी अभी पुलिस द्वारा की जा रही है।

Top