जेल भिजवाने की रंजिश में हुई थी आशुतोष की हत्या-3 गिरफ्तार

जेल भिजवाने की रंजिश में हुई थी आशुतोष की हत्या-3 गिरफ्तार

मुजफ्फरनगर। सर्राफा कारोबारी के बेटे आशुतोष की हत्या पुरानी रंजिश का बदला लेने के लिए की गई थी। मृतक आशुतोष ने एक आरोपी सुमित को किसी मामले में जेल भिजवाया था। मुख्य आरोपी द्वारा आशुतोष के साथियों के साथ मिलकर पहले उसका अपहरण किया और बाद में हत्या कर दी। हत्या के बाद पैसे वसूलने के लिए परिजनों को फिरौती का पत्र भी भेज दिया गया। पुलिस ने मृतक का शव बरामद होने के महज 12 घंटे के भीतर तीन अपहरण एवं हत्यारोपियों को गिरफ्तार कर इस मामले का खुलासा कर दिया है।

रविवार को जिला मुख्यालय पर हुई प्रेसवार्ता में एसपी सिटी अर्पित विजयवर्गीय ने बताया है कि 18 फरवरी को चरथावल कोतवाली क्षेत्र के गांव निवासी सर्राफ का बेटा संदिग्ध परिस्थितियों में लापता हो गया था। काफी खोजबीन के बाद भी पता नहीं चलने पर परिजनों की ओर से आशुतोष की गुमशुदगी दर्ज कराई गई थी। गुमशुदगी दर्ज होने के 2 दिन बाद ही आशुतोष के परिजनों को दो लाख रूपए की फिरौती का पत्र मिला। इस मामले में शक के आधार पर पुलिस ने आशुतोष के साथी सुमित को पूछताछ के लिए हिरासत में लिया, जिससे कडाई के साथ की गई पूछताछ के बाद यह मामला परत दर परत खुलता चला गया। सुमित ने बताया कि कुछ समय पहले आशुतोष की वजह से एक मामले में वह जेल गया था इसी बात की रंजिश का बदला लेने के लिए उसने अपने साथी हिमांशु एवं रमेश के साथ मिलकर पहले आशुतोष का अपहरण किया और बाद में उसकी हत्या कर दी। आशुतोष के परिजनों से पैसा वसूलने के लिए उसने हत्या के तुरंत बाद ही परिजनों को फिरौती का पत्र भेज दिया। पुलिस ने इस मामले में मुख्य आरोपी सुमित समेत तीन अपहरण व हत्यारोपियों को गिरफ्तार कर लिया है।

Top