जुलूस का वीडियो टविट होते ही खुली नींद- पुलिस ने किया मुकदमा दर्ज

जुलूस का वीडियो टविट होते ही खुली नींद- पुलिस ने किया मुकदमा दर्ज

बागपत। राष्ट्रीय लोकदल एवं समाजवादी पार्टी गठबंधन के प्रत्याशी के समर्थन में जुलूस निकालने के बाद जब उसका वीडियो ट्विटर पर डाला गया तो पुलिस ने मामले का संज्ञान लेते हुए गांव में पहुंचकर जांच पड़ताल की और आदर्श आचार संहिता एवं कोविड-19 गाइडलाइन के उल्लंघन के मामले को लेकर 10 लोगों को नामजद करते हुए 650 अज्ञात व्यक्तियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर दिया। कोतवाली के एसआई के मुताबिक कृष्ण पाल सिंह के द्वारा एक वीडियो ट्वीट की गई थी।

बागपत विधानसभा सीट पर गठबंधन प्रत्याशी के तौर पर चुनाव लड़ रहे रालोद उम्मीदवार के समर्थक गांव में जुलूस निकाल रहे थे। इस दौरान जुलूस का वीडियो बनाया गया और उसे ट्विटर पर डाल दिया। यह वीडियो जब पुलिस के पास तक पहुंचा तो उसने गांव में पहुंचकर मामले की जांच पड़ताल की। उच्चाधिकारियों के निर्देश पर गांव मवी कलां में की गई जांच पड़ताल में पता चला कि आयुष धामा पुत्र सतपाल, सचिन पुत्र ओमप्रकाश, मोमिन पुत्र इस्लामुद्दीन, कृष्ण पाल पुत्र कालूराम, विनोद पुत्र आसे, प्रवीण पुत्र जीतराम, बाबू पुत्र जयपाल, अजीत पुत्र कालू, हैदर पुत्र अजीज तथा कोमल पुत्र तेजपाल एवं 600-650 अज्ञात व्यक्तियों द्वारा रालोद के बागपत विधानसभा क्षेत्र के प्रत्याशी अहमद हमीद के चुनाव के प्रचार के लिए जुलूस निकाला गया। जुलूस में शामिल हुए लोगों ने हाथों में बैनर एवं पोस्टर लेकर नारेबाजी की। पुलिस का कहना है कि इस राजनीतिक कार्यक्रम की अनुमति तो ली गई थी, लेकिन अनुमति में उल्लेखित शर्तों का जुलूस निकाल रहे लोगों द्वारा घोर उल्लंघन किया गया है। पुलिस ने दस नामजदों के अलावा 650 लोगों के खिलाफ आदर्श चुनाव आचार संहिता और कोविड-19 के नियमों का उल्लंघन के आरोप में मुकदमा दर्ज किया है।

Top