प्रमुख सचिव ने जिला विद्यालय निरीक्षक कार्यालय एवं जिला अस्पताल का किया निरीक्षण

पात्र व्यक्तियों को प्राथमिकता के आधार पर योजनाओं का लाभ दिलाये जाने के दिये निर्देश


प्रमुख सचिव ने किया थाना भोपा व ग्राम पंचायत भोपा द्वारा निर्मित अस्थाई गौशाला का निरीक्षण


मुजफ्फरनगर प्रमुख सचिव कृषि/जनपद के नोडल अधिकारी अमित मोहन प्रसाद ने आज जनपद के ग्राम शुकतीर्थ(शुक्रताल) के ग्रामवासियों के साथ जिला पंचायत निरीक्षण भवन में खुली बैठक/जन चौपाल लगाकर उनकी समस्याओं को गम्भीरता से सुना और सम्बन्धित अधिकारियो को यथाशीघ्र निस्तारण करने के निर्देश भी दिये।

मुख्य विकास अधिकारी ने 14 वे वित्त आयेाग व राज्य वित्त आयेाग के द्वारा कराये गये कार्यो को खुली बैठक में ग्राम वासियो को पढकर सुनाया और उनका सत्यापन भी कराया

बैठक में मुख्य विकास अधिकारी आलोक यादव ने बताया कि ग्राम में शौचालयों का निर्माण कराया गया है। उन्होने बताया कि गांव में 101 वृद्वावस्था पेशन, 96 विधवा पेंशन दी जा रही हैं। गांव में 52 हैण्डपम्प है। मुख्य विकास अधिकारी ने 14 वे वित्त आयेाग व राज्य वित्त आयेाग के द्वारा कराये गये कार्यो को खुली बैठक में ग्राम वासियो को पढकर सुनाया और उनका सत्यापन भी कराया। प्रमुख सचिव ने योजनाओं में लाभ प्राप्त कर रहे पात्रों का सत्यापन भी कराया। प्रमुख सचिव ने अधिकारियों को निर्देश दिये कि शासन की प्राथमिकताओ की सभी जनकल्याणकारी योजनओ का लाभ प्रत्येक लाभार्थी को दिलाया जाये। उन्होंने राज्य वित्त आयोग व 14वे वित्त आयोग में जारी धनराशि के बारे में भी जानकारी हासिल की तथा ग्रामवासियों से गांव में किये गये विकास कार्यो के बारे में भी पूछा। उन्होने विधवा पेशन व वृद्वावस्था पेंशन के लाभार्थियों का सत्यापन भी किया। प्रमुख सचिव ने गांव में प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि, कन्या सुमंगला योजना, आयुष्मान कार्ड, राशन कार्ड, राशन वितरण आदि जन सामान्य से जुडी समस्याओं के बारे मे ग्रामवासियों से पूछा कि योजना के लाभ लेने में अगर कोई दिक्कत है तो उसका निस्तारण कराया जायेगा। उन्होने कहा कि पात्रों को योजनाओं का लाभ प्रत्येक दशा में दिया जाये।

प्रमुख सचिव ने ग्रामीणों की समस्याअेा को सुनकर सम्बन्धित अधिकारियों को निर्देश दिये कि इन समस्याओं का निराकरण प्राथमिकता के आधार पर किया जाये


खुली बैठक में ग्राम वासियों द्वारा शुकतीर्थ में पानी की उचित निकासी कराये जाने के लिए प्रस्ताव बनाये जाने, गंगा घाट पर विद्युत /रोशनी की उचित व्यवस्था, की प्रमुख मांगे प्रमुख सचिव के समक्ष रखी गयी। प्रमुख सचिव ने ग्रामीणों की समस्याअेा को सुनकर सम्बन्धित अधिकारियों को निर्देश दिये कि इन समस्याओं का निराकरण प्राथमिकता के आधार पर किया जाये। उन्होने निर्देश दिये कि पात्रों तक सभी योजनाओं का लाभ प्रत्येक दशा में पहुंचाया जायें। उन्होने कहा कि सभी कल्याणकारी योजनाओं से ग्रामवासियों को पूर्ण संतृप्त किया जाये।

ग्राम पंचायत भोपा द्वारा निर्मित अस्थाई गौशाला का निरीक्षण किया

इसके पूर्व प्रमुख सचिव ने ग्राम पंचायत भोपा द्वारा निर्मित अस्थाई गौशाला का निरीक्षण किया। उन्होने कहा कि गौंवश संरक्षण का विशेष घ्यान रखा जाये। उनहोने गौशाला में गौवंश के पीने के पानी उनके चारे की व्यवस्थाओं का निरीक्षण किया। इसके पश्चात प्रमुख सचिव ने थाना भोपा का निरीक्षण करते हुए भूमि विवाद रजिस्टर, हिस्ट्रीशीट, त्यौहार रजिस्टर आदि अभिलेखों केा निरीक्षण कर निर्देश दिये कि अपराधों व अपराधियों पर प्रत्येक दशा में कडी कार्यवाही की जाये।

जिला विद्यालय निरीक्षक कार्यालय का निरीक्षण

इसके पूर्व प्रमुख सचिव ने जिला विद्यालय निरीक्षक कार्यालय का निरीक्षण करते हुए जिला विधालय निरीक्षक से जनपद के सभी विधालयों राजकीय, वित्तीय सहायता प्राप्त व गैर वित्तीय विधालयों के सम्बन्ध में जानकारी की। उन्होने इन विधालयों में नियुक्ति की प्रक्रिया के बारे में पूछा। उन्होने हाईस्कूल व इण्टर पास बच्चों के आगे की शिक्षा के बारे में पूछते हुए कहा कि ऐसा एक डेटा बेस तैयार कराया जाये कि किस स्कूल से कितने बच्चे उच्च शिक्षा में आगे तक जा रहे है। इससे स्कूल की शैक्षिक गुणवत्ता का पता लगाया जा सकता है। उन्होने कहा कि इण्टर पास किये बच्चों की आगे की शिक्षा के बारे मे पता कराया जाये। उन्होने कहा कि बच्चों के शैक्षणिक स्तर को मापने के लिए जनपद मे प्रशासन द्वारा जनसहभागिता से स्कूल ओलम्पियाड कराया जाये। उन्होनें कहा कि इस प्रकार बच्चों की शैक्षिक गुणवत्ता में सुधार आयेगा और प्रतिस्र्पधा जगेगी। उन्होने जिला विधालय निरीक्षक से अध्यापको को दिये जाने वाले पुरूस्ककरों केा सम्बन्ध मे भी जानकारी की। उसके पश्चात उन्होने कार्यालय के कक्षों को निरीक्षण करते हुए छात्रवृति की फाईलों का निरीक्षण किया। उन्होने निदे्रश दिये कि फाईलों का निस्तारण सही प्रकार से किया जाये। कार्यालय में साफ सफाई ठीक कराई जाये।

जिला अस्पताल में आपातकालीन वार्ड में पहुंच मौके पर मरीजों से उनके उपचार के बारे में बात की और उनका हालचाल लिया

प्रमुख सचिव ने इसके पश्चात आज जिला अस्पताल में आपातकालीन वार्ड में पहुंच मौके पर मरीजों से उनके उपचार के बारे में बात की और उनका हालचाल लिया और उनसे पूछा की उपचार में कोई बाधा तो नही आ रही है और डाॅक्टर बाहर की दवाई तो नही लिख रहे है आदि की जानकारी ली। प्रमुख सचिव ने निरीक्षण करते समय मरीजों की स्वास्थ्य समस्याओं को भी जाना। उन्होने पोषण पुनर्ववास केन्द्र में अति कुपोषित व कुपोषित बच्चों का हालचाल जाना और उनकी माताओं से कहा कि बच्चों के साथ-साथ आप भी अपने खान-पान में बदवाल लाएं जिससे कि बच्चों की सेहत अच्छी हो सके। उन्हेाने कहा कि ऐसे बच्चो का ईलाज अस्पताल में चल रहा है और कुपोषण को लेकर एक अभियान भी चलाया गया है जिससे कि जनपद कुपोषण मुक्त हेा सके। उन्होने वहां पर कुपोषित बच्चों को दी जा रही दवाईयों पोष्टिक आहार में बारे मे भी जानकारी प्राप्त की। प्रमुख सचिव ने इसके पश्चात जिला चिकित्सालय में स्थित ब्लडबैंक का निरीक्षण किया।

इस अवसर पर जिलाधिकारी सेल्वा कुमारी जे, मुख्य विकास अधिकारी आलोक यादव, अपर जिलाधिकारी प्रशासन अमित कुमार भोपा प्रधान सहित समस्त सम्बन्धित अधिकारीगण उपस्थित थे।

epmty
epmty
Top