आईपीएस अभिषेक यादव ने लोअर पीसीएस परीक्षा में पकड़ा साॅल्वर गैंग

आईपीएस अभिषेक यादव ने लोअर पीसीएस परीक्षा में पकड़ा साॅल्वर गैंग

मुजफ्फरनगर। उत्तर प्रदेश अधीनस्थ सेवा चयन आयोग के द्वारा हाल ही में आयोजित करायी गयी लिखित परीक्षा में एसएसपी अभिषेक यादव की चौकस और चौकन्नी पुलिस टीम ने साॅल्वर गैंग का भंडाफोड़ करते हुए गिरोह के पांच सदस्यों को गिरफ्तार किया है। साॅल्वर गिरोह के सदस्य एक परीक्षार्थी से 5 से 8 लाख रुपये लेकर सलेक्शन की गारंटी लेकर काम करते थे। यहां पर दो दिनों तक इस परीक्षा का आयोजन किया गया था। इसमें करीब 19 हजार परीक्षार्थी शामिल हुए थे। पुलिस ने परीक्षा के अंतिम दिन मंगलवार को साॅल्वर गिरोह के इन सदस्यों को गिरफ्तार किया जिसका खुलासा बुधवार को प्रेस कांफ्रेंस में किया गया।

उत्तर प्रदेश अधीनस्थ सेवा चयन आयोग के द्वारा लोअर पीसीएस की परीक्षा का आयोजन राज्य के 14 जनपदों में कराया गया था। मुजफ्फरनगर में इस दो दिवसीय परीक्षा के लिए 11 सेंटर बनाये गये थे। सेामवार और मंगलवार को लोअर पीसीएस परीक्षा का आयोजन हुआ था। इसमें 38 हजार से ज्यादा पंजीकृत अभ्यर्थियों में से करीब 19 हजार अभ्यर्थियों के द्वारा ही परीक्षा दी गयी थी। इस परीक्षा को लेकर अपर जिलाधिकारी वित्त एवं राजस्व आलोक कुमार को नोडल अफसर बनाया गया था। परीक्षा के दौरान सभी 11 परीक्षा केन्द्रों पर भारी सुरक्षा बंदोबस्त किये गये थे। इस परीक्षा के दौरान साॅल्वर गैंग के सक्रिय होने की सूचना पर पुलिस प्रशासन और खुफिया विभाग पूरी तरह से सतर्क रहा, जिसके चलते एसएसपी अभिषेक यादव के नेतृत्व में पुलिस ने साॅल्वर गैंग का भंडाफोड़ किया है। गिरेाह के पांच सदस्यों को पकड़ा गया है।

पुलिस को मिली इस सफलता की जानकारी देने के लिए एसपी सिटी सतपाल अंतिल ने पुलिस लाइन में साॅल्वर गिरोह के सदस्यों को साथ लेकर मीडिया को जानकारी दी। उन्होंने बताया कि थाना नई मण्डी पुलिस द्वारा एक अक्टूबर 2019 को सनातन धर्म कन्या इण्टर कॉलेज गांधी कॉलोनी में चल रही लोअर पीसीएस की परीक्षा के दौरान सौल्वर गैंग के 05 अभियुक्तों को गिरफ्तार किया गया। ये सभी अभियुक्त मुख्य रूप से ग्रुप डी, हाईकोर्ट, लोअर पीसीएस, एमटीएस, एसएससी आदि की परीक्षा साॅल्वर गिरोह के माध्यम से अभ्यर्थियों को पास करवाने का कार्य करते हैं। जिसमें इनके द्वारा प्री परीक्षा से पूर्व 01 लाख रूपए व प्री परीक्षा पास करने के बाद 01 लाख रूपए तथा मैन्स परीक्षा से पूर्व 01 लाख रूपए व मैन्स परीक्षा पास करने के बाद 01 लाख रूपए तथा फाइनल सलेक्शन पर तय की हुई धन राशि लेते थे। जोकि नौकरी के हिसाब से 05 से 08 लाख रूपए तक होती थी। एसपी सिटी सतपाल के अनुसार अभियुक्त द्वारा उपरोक्त परीक्षाओं को यूपी के विभिन्न जनपदों के अलावा अन्य राज्यों जैसे दिल्ली, देहरादून, पंजाब आदि में दिलवाने का काम कर चुके हंै। एसपी सिटी ने बताया कि पकड़े ये सभी अभियुक्त कई बार परीक्षाओं को साॅल्वर गिरोह के साथ मिलकर अंजाम देने में सफल रहे हैं, लेकिन मुजफ्फरनगर में बरती गयी विशेष चौकसी और परीक्षा केन्द्रों पर सघन चैकिंग के चलते इस गिरोह का भंडाफोड़ करने में सफलता मिली है। उन्होंने बताया कि नई मण्डी थाना प्रभारी इंस्पेक्टर संजीव कुमार और उनकी टीम ने बेहतर ढंग से यह सफलता अर्जित की है। उन्होंने बताया कि गिरफ्तार अभियुक्तगण में मुकेश कुमार उर्फ प्रेम पुत्र मोतीलाल निवासी छनहा थाना बघेला पोस्ट विष्णुपुर जनपद रोहताश (बिहार), अमित कुमार पुत्र सुरेश कुमार भारद्वाज, विशेषांक पुत्र सोपाल सिंह और हरेन्द्र सिंह पुत्र महेन्द्र सिंह निवासीगण मौहल्ला कुटिया थाना कोतवाली जनपद बिजनौर तथा ऋषभ कुमार पुत्र प्रीतम सिंह निवासी टूंगरी थाना हीमपुर दीपा जनपद बिजनौर शामिल हैं। एसपी सिटी ने बताया कि गिरफ्तारी के बाद पुलिस ने इन पांचों अभियुक्तों के पास से 01 लाख रूपए नकद, 02 आधार कार्ड, वोटर आई कार्ड, पैन कार्ड, 02 मोटर साइकिल बरामद की गयी हैं।

epmty
epmty
Top