आज के दिन ही 2013 को उत्तरांखड चॉपर क्रैश में 21 लोग मारे गये थे

आज के दिन ही 2013 को उत्तरांखड चॉपर क्रैश में 21 लोग मारे गये थे

आज के दिन ही 2013 को उत्तरांखड के गौरीकुंड में चॉपर क्रैश में 21 लोग मारे गये थे। मारे गए लोगों में वायुसेना के पांच, भारत-तिब्बत सीमा पुलिस (आईटीबीपी) के छह जवान और राष्ट्रीय आपदा कार्रवाई बल (एनडीआरएफ) के नौ लोग शामिल थे। वायुसेना के इस हेलीकॉप्टर एमआई-17 का कॉकपिट वॉयस रिकॉर्डर और फ्लाइट डाटा रिकॉर्डर भी दुर्घटन स्थल पर ही मिल गया था।

वायुसेना प्रमुख एनएके ब्राउन ने कहा था कि वायुसेना के पायलट बेहद योग्य और इस तरह के अभियान कार्यान्वित करने के लिए पूरी तरह से सक्षम हैं और हमारे जवानों का मनोबल बेहद ऊंचा बना हुआ है। बचाव अभियान में शामिल वायुसेना के जवानों और दूसरी एजेंसियों ने 'बेहद शानदार' ढंग से काम किया है।

एमआई-17 वी-5 हेलीकॉप्टर गौचर से गुप्तकाशी और केदारनाथ में जारी बचाव अभियान में जुटा था, जहां से लौटते समय कल दोपहर गौरीकुंड के उत्तर में यह दुर्घटनाग्रस्त हो गया था। ब्राउन ने वायुसेना की मदद करने के लिए स्थानीय प्रशासन की भी प्रशंसा की थी।

Top