तेजी पर लगा ब्रेक-सेंसेक्स और निफ्टी हुआ धड़ाम

तेजी पर लगा ब्रेक-सेंसेक्स और निफ्टी हुआ धड़ाम

मुंबई। अमेरिका में बांड पर बेहतर रिटर्न मिलने के बाद वहां के बाजारों में कल हुई भारी गिरावट के कारण आज घरेलू शेयर बाजार में 3 दिनों से जारी तेजी पर ब्रेक लग गया और सेंसेक्स 1.16 प्रतिशत तथा निफ्टी 1.08 प्रतिशत की गिरावट पर बंद हुए। सेंसेक्स 51 हजार अंक से नीचे आकर 50,846.08 अंक पर और निफ्टी 15.080.75 अंक पर बंद हुआ।

सत्र के दौरान बीएससी का 30 शेयरों वाला संवेदी सूचकांक सेंसेक्स 632 अंकों की गिरावट के साथ 51 हजार अंक के स्तर से नीचे आकर 50,846.08 अंक पर बंद हुआ। एनएसई का निफ्टी 164.85 अंक लुढ़क कर 15080.50 अंक पर आ गया। दिग्गज कंपनियों में जहां बिकवाली देखी गई वहीं मझोली और छोटी कंपनियों में लिवाली का जोर बना रहा जिससे बीएसई का मिडकैप 0.48 प्रतिशत बढ़कर 20,984.19 अंक पर और स्मॉलकैप 0.80 प्रतिशत की वृद्धि के साथ 21,254.07 अंक पर बंद हुआ।

बीएसई में आज कुल 3170 कंपनियों में कारोबार हुआ इनमें 1593 कंपनियों के शेयर हरे निशान में और 1384 के लाल निशान में बंद हुये जबकि शेष 193 कंपनियों के शेयर दिनभर के उतार-चढ़ाव के बाद अंतत: अपरिवर्तित रहे।

बीएसई का सेंसेक्स आज 633 अंक लुढ़क कर 50,812.14 अंक पर खुला और दोपहर बाद 51,256.55 अंक के उच्चतम स्तर तक पहुंचा। अंत में पिछले दिवस के 51,44.65 अंक के मुकाबले 1.16 प्रतिशत और 598.57 अंको की गिरावट के साथ 50.846.08 अंक पर बंद हुआ।

एनएसई का निफ्टी करीब 219 अंक की गिरावट के साथ 15,026.75 अंक पर खुला। इसका दिवस का उच्चतम स्तर 15,202.35 अंक और न्यूनतम स्तर 14,990.20 अंक रहा। अंत में यह गत दिवस की तुलना में 1.08 प्रतिशत अंक की कमी के साथ 15.080.75 अंक पर बंद हुआ। निफ्टी की 50 में से 12 कंपनियों के शेयर चढ़े और 38 सात लाल निशान में रहे।

बीएसई में करीब आधे से अधिक समूह बढ़त में रहे जिसमें ऊर्जा सर्वाधिक 0. 63 प्रतिशत बढ़त में रहा जबकि धातु सर्वाधिक 2.31 प्रतिशत और फाइनेंस 1.46 प्रतिशत तथा बैंकिंग 1.45 प्रतिशत की गिरावट दर्ज की गई।

वैश्विक स्तर पर यूरोप और एशिया के मुख्य सूचकांकों में भी गिरावट दर्ज की गई। एशिया के हांगकांग के हैंगसैंग में सबसे अधिक 2.15 प्रतिशत, जापान के निक्की में 2.13 प्रतिशत तथा चीन के शंघाई कम्पोजिट में 2.05 प्रतिशत की गिरावट देखी गई। यूरोप के ब्रिटेन के एफटीएसई में 1.20 प्रतिशत और जर्मनी के डैक्स में 0.70 प्रतिशत की गिरावट दर्ज की गयी।

वार्ता

Top