हड़ताल-निजीकरण के खिलाफ फूटा बैंक कर्मचारियों का गुस्सा

हड़ताल-निजीकरण के खिलाफ फूटा बैंक कर्मचारियों का गुस्सा

नई दिल्ली। यूनाइटेड फोरम ऑफ बैंक यूनियंस ने अगले 2 दिन के लिए बैंक कर्मचारियों की हड़ताल बुलाई है,जिसमें सरकारी बैंकों में कार्यरत कर्मचारी शामिल होंगे। सरकार द्वारा किए जा रहे निजीकरण की वजह से सरकारी बैंक के कर्मचारी 15 और 16 मार्च को यूनाइटेड फोरम ऑफ बैंक यूनियंस की हड़ताल में शामिल होंगे। सरकारी बैंक के कर्मचारियों की निरंतर मांग है कि बैंक का निजीकरण किसी भी हालात में ना किया जाए क्योंकि निजीकरण होने से कर्मचारियों की नौकरी खतरे में पड़ने की संभावनाएं बढ़ रही है।

जबकि सरकार अपना पक्ष रखते हुए कह रही है कि सरकारी संस्थाओं को चलाने के लिए निजीकरण अति आवश्यक है। अगर उनका निजीकरण ना किया जाए तो उनके कर्मचारियों की सैलरी निकालना मुश्किल हो रहा है। इसलिए संस्थानों को बेहतर चलाने और कम से कम कर्मचारियों के द्वारा संस्थान को चलाने के लिए निजीकरण किया जाना अति आवश्यक है। आपको बता दें कि जिन चार बैंकों के निजीकरण की बातें सामने आ रही है उनमें लगभग 1 लाख से भी ज्यादा कर्मचारी नौकरी कर रही है

Top