सिविल एविएशन सेक्टर हमारी अर्थव्यवस्था का संवाहक होगा: हरदीप सिंह पुरी

सिविल एविएशन सेक्टर हमारी अर्थव्यवस्था का संवाहक होगा:  हरदीप सिंह पुरी


देश के सबसे ऊंचे एटीसी का उद्घाटन


नई दिल्ली । नागरिक विमानन तथा आवासन एवं शहरी कार्य राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) हरदीप सिंह पुरी ने आज नई दिल्ली में इंदिरा गांधी अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे पर देश के सबसे ऊंचे एयर ट्रैफिक कंट्रोल टावर-दिल्ली हवाई यातायात सेवा परिसर (डीएटीएस-परिसर) का उद्घाटन किया।


इस अवसर पर उन्होंने कहा कि कुशल, सुचारू और निर्बाध हवाई यातायात प्रबंधन को सुनिश्चित करने के लिए सेवाओं तथा प्रणालियों को उन्नत करने के संबंध में यह आदर्श अवसंरचना एक आवश्यक कदम है। उद्घाटन के समय नागरिक विमानन मंत्रालय के सचिव प्रदीप सिंह खारोला, डीजीसीए अरुण कुमार, भारतीय हवाई पत्तन प्राधिकरण के अध्यक्ष अनुज अग्रवाल सहित मंत्रालय और एएआई के वरिष्ठ अधिकारी भी उपस्थित थे।


एएआई के प्रयासों की सराहना करते हुए पुरी ने कहा कि भारतीय हवाई अड्डों पर बढ़ते यात्री और माल यातायात से भारतीय अर्थव्यवस्था के तेज विकास का परिचय मिलता है। उन्होंने कहा कि आने वाले वर्षों में नागरिक विमानन क्षेत्र हमारी अर्थव्यवस्था का संवाहक होगा।


कार्यक्रम में नागरिक विमानन मंत्रालय के सचिव प्रदीप सिंह खारोला ने कहा कि मशीनों के पीछे काम करने वाले लोग हर संचालन के लिए महत्वपूर्ण होते हैं। उन्होंने कहा कि आकाश में हवाई जहाजों को सुरक्षित बनाने के लिए हमारे एयर ट्रैफिक कंट्रोलर गुमनाम महानायक हैं और हम उनके प्रति कृतज्ञ हैं।


डीएटीएस-परिसर के विशेष पक्ष इस प्रकार हैं –


102 मीटर का भारत में सबसे ऊंचा एयर ट्रैफिक कंट्रोल टावर है। यह विश्व के सबसे ऊंचे कंट्रोल टावरों में शामिल है।


33 टावरों का प्रावधान और कंट्रोल टावर के 26 और 25 लेवल पर ग्राउंड कंट्रोलर


कंट्रोलर के उत्तरदायित्व वाले क्षेत्र में उन्नत वीएचएफ कवरेज के लिए इंटरनेट प्रोटोकॉल आधारित संचार प्रणाली


उन्नत राडार और एडीएस सक्षम ऑटोमेशन प्रणाली


कागजी स्ट्रिप के स्थान पर एटीजी

इकाइयों में इलेक्ट्रानिक उड़ान स्ट्रिप
ऑनलाइन उड़ान प्लान फिलिंग

सुविधा के साथ आईपी आधारित

स्वचालित संदेश स्विचिंग प्रणाली


350 करोड़ रुपये की लागत से निर्मित प्रणाली में अत्याधुनिक उपकरण

Top