प्रबंधन 15 प्रतिशत देने को तैयार, यूनियन मांग रहा 25 प्रतिशत

प्रबंधन 15 प्रतिशत देने को तैयार, यूनियन मांग रहा 25 प्रतिशत

कोल इंडिया एवं यूनियनों के बीच वेतन बढ़ोतरी पर 24 अगस्त को नई दिल्ली में बैठक होगी। इस बैठक में कोल इंडिया के चेयरमैन एवं सभी निदेशक तथा सीसीएल के अध्यक्ष गोपाल सिंह सहित अन्य अनुषंगी इकाइयों के अध्यक्ष सह प्रबंध निदेशक उपस्थित रहेंगे। यूनियनों की ओर से सीटू के रामानंद सिंह, बीएमएस के डॉ बसंत कुमार, पूर्व विधायक एवं यूनियन नेता रणेन्द्र कुमार सहित 28 यूनियनों के प्रतिनिधि शामिल होंगे। यूनियनों की पहले 50 प्रतिशत वेतन वृद्धि की मांग थी लेकिन प्रबंधन फंड की कमी का हवाला देकर 15 प्रतिशत वेतन देने को तैयार है। यूनियनों ने 50 प्रतिशत से घटा कर 21 प्रतिशत वेतन वृद्धि की मांग की, परन्तु जब प्रबंधन 15 प्रतिशत ही वेतन वृद्धि देने पर अड़ गया तो अब यूनियनों ने 25 प्रतिशत वेतन वृद्धि की मांग कर दी है। 24 अगस्त को होने वाली बैठक में बीच का रास्ता निकल सकता है। सीटू नेता रामानंद सिंह का कहना है कि प्रबंधन ने लाभांष के तौर पर 55 हजार करोड़ रुपये सरकार को दे दिए और अब फंड का रोना रोया जा रहा है। श्री सिंह का कहना है कि सरकार को इतनी बड़ी राशि देने से यूनियनों को कोई एतराज नहीं है लेकिन श्रमिकों को भी लाभ मिलना चाहिए। प्रबंधन का कहना है कि वह वेतन वृद्धि के रुप में पांच हजार 700 करोड़ नहीं दे सकता है। प्रबंधन साढ़े चार हजार करोड़ रुपये तक देने को तैयार है। इधर मानसून के कारण कई पावर प्लांटों में कोयले का स्टॉक कम हो गया है। सेंट्रल कोल फील्ड्स लिमिटेड ने अपना तिमाही उत्पादन का लक्ष्य पूरा कर लिया है।

Read more at: http://ranchiexpress.com/category/rashtriya/ranchi/-15-25--538867

epmty
epmty
Top